Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

*अहम ब्रह्मास्मि*

शीर्षक —- अहम ब्रह्मास्मि
विधा —— छंद मुक्त अतुकांत काव्य
डॉ अरुण कुमार शास्त्री

एके साधे सब सधे ,
सब साधे सब जाएँ ।
अपने अपने इष्ट सभी के ,
काहे दुख तू पाएँ ?
क्या तेरा क्या मेरा जग में ?
कुछ भी साथ न जाए ।
रुपया पैसा जमीन जायदाद ,
सभी यहीं रह जाये रे बबुआ ।
सभी यहीं रह जाए ।
जैसी करनी वैसी भरनी ।
ये जग माया जाल की गठरी ,
फिर काहे पछताए ?
राम नाम को मन धारण कर ,
सीधा सरल उपाय रे बबुआ ।
सीधा सरल उपाय ।
पूजा करना स्वाभाविक गुण ,
पूजा कर्म मनुज की थाती ।
पूजा करने से जीवन में ,
सुख शांति समृद्धि आती ।
केवल यही उपाय रे बबुआ ,
केवल यही उपाय ।
अपने अपने इष्ट, सभी के ,
काहे दुख तू पाए ?
तन के जोगी मन के रोगी ,
चिन्ता चित में व्याप्त ।
लोक लाज को छोड़कर, करें
व्यसन क्यों आज ?
ईश कृपा तो चाहिए भज मन तू भगवान ।
बुरे संग तू त्याग दे , ले सत्संग का साथ ।

Language: Hindi
1 Like · 83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
Ranjeet kumar patre
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
कवि दीपक बवेजा
मेरा होकर मिलो
मेरा होकर मिलो
Mahetaru madhukar
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विरह
विरह
Neelam Sharma
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
3020.*पूर्णिका*
3020.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
Sunil Maheshwari
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
🙅विषम-विधान🙅
🙅विषम-विधान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
डॉ ऋषि कुमार चतुर्वेदी (श्रद्धाँजलि लेख)
डॉ ऋषि कुमार चतुर्वेदी (श्रद्धाँजलि लेख)
Ravi Prakash
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
"नदी की सिसकियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...