Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2017 · 1 min read

अहं

अहं
जब जब सोचा
पा ली है विजय मैंने
अपने अहं पर
पता नहीं क्यों
जरा- सी-ठोकर लगने पर
फिर किसी गहराई से
फुफकार उठता है अहं
कितना भी दुतकारो
नाचता है बार बार
मन की आंखों के आगे
चिड़ाता है, सताता है
जानलेवा ताप-सा
चिंता के संताप-सा
कई बार तलवार-सा
हृदय में चुभ
जहर-सा फैल जाता है
अमृत का पात्र
फटकने नहीं देता पास
मन की अशान्ति का
उदधि बन जाता है
क्या कोई समझ सका
अहं की माया का आर-पार?
जो किसी संजीवनी की
नाव पर हो सवार
अहं को ले साध?

Language: Hindi
297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Santosh Khanna (world record holder)
View all
You may also like:
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
gurudeenverma198
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अन्तर्मन
अन्तर्मन
Dr. Upasana Pandey
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
डगर जिंदगी की
डगर जिंदगी की
Monika Yadav (Rachina)
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
भारत शांति के लिए
भारत शांति के लिए
नेताम आर सी
बेटा…..
बेटा…..
Dr. Mahesh Kumawat
एक संदेश युवाओं के लिए
एक संदेश युवाओं के लिए
Sunil Maheshwari
आदतें
आदतें
Sanjay ' शून्य'
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
दोहा पंचक. . . . . दम्भ
दोहा पंचक. . . . . दम्भ
sushil sarna
नेता जी शोध लेख
नेता जी शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2478.पूर्णिका
2478.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
#एक_और_बरसी
#एक_और_बरसी
*प्रणय प्रभात*
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
भविष्य के सपने (लघुकथा)
भविष्य के सपने (लघुकथा)
Indu Singh
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
रूठे लफ़्ज़
रूठे लफ़्ज़
Alok Saxena
हम सभी केवल अपने लिए जीते और सोचते हैं।
हम सभी केवल अपने लिए जीते और सोचते हैं।
Neeraj Agarwal
Loading...