Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

अस्तित्व

पत्थर पर गिरते ही शीशा चूर-चूर होता है ,
और शीशे पर पत्थर पड़ते ही
शीशा चूर-चूर बिखरता है ,

हर बार शीशे को तोड़कर
पत्थर अपनी ह़स्ती जताता है ,
और शीशा हर बार टूटकर यह प्रकट करता है
कि वह टूटने के लिये ही बना है ,

इसी तरह कुछेक पत्थर दिल इंसान
दूसरों के शीशानुम़ा दिल को तोड़कर
अपनी हस्ती काय़म करने की
कोशिश में लगे हुए हैं ,

और कुछेक शीशे का दिल लिये
हर बार टूटते- बिखरते रहते हैं ,
और हमेशा पत्थर से टक्कर लेने की
कोशिश करते रहते हैं ,

उन्हें पता नहीं की टक्कर लेने के लिए
ठोस अस्तित्व की आवश्यकता होती है ,
जिससे उसके टुकड़े अपने अस्तित्व की
रक्षा करते हुए टूटकर बिखरने न पाऐं ,

और उसके लिए आत्मविश्वास से परिपूर्ण
दिल की जरूरत होती है ,

जो पत्थर दिल इंसानों का मनोबल हिला सके ,
उन्हें उनके किये आघातों का अनुभव दिला सके ,

और सिद्ध कर सके कि अब ये शीशेनुमा दिल , पत्थरदिलों का मुकाबला कर सकते हैं ,

तथा उनमे दरार पैदा करके अपनी सामर्थ्य जता सके,
कि अब पत्थरों के दिन पूरे हो चुके हैं ,

और पत्थरों को तोड़ने बिखराने के लिए
मज़बूत दिल शीशे पैदा हो चुके हैं ।

Language: Hindi
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
"मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-229💐
💐प्रेम कौतुक-229💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*किसी की जेब खाली है, किसी के पास पैसे हैं 【मुक्तक】*
*किसी की जेब खाली है, किसी के पास पैसे हैं 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
वाल्मीकि रामायण, किष्किन्धा काण्ड, द्वितीय सर्ग में राम द्वा
वाल्मीकि रामायण, किष्किन्धा काण्ड, द्वितीय सर्ग में राम द्वा
Rohit Kumar
" मैं तन्हा हूँ "
Aarti sirsat
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
#Secial_story
#Secial_story
*Author प्रणय प्रभात*
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
Swati
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
Dr. Man Mohan Krishna
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
Loading...