Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

अस्तित्व

कभी किसी शिल्पकार की मूर्ति में,
कभी किसी चित्रकार की कृति में ,
कभी किसी कवि की भावाभिव्यक्ति में ,
कभी किसी गायक के गायन श्रुति में,
कभी किसी वादक के वाद्य तरंगित ध्वनि में,
कभी किसी साधक के प्रभामंडल ज्योति में ,
कभी किसी विद्वान की प्रसारित सूक्ति में ,
कभी संकल्पित भाव लिए दृढ़ युवाशक्ति में ,
कभी किसी अबोध शिशु की स्मित हँसी में ,
कभी पूर्ण समर्पित भाव लिए लीन भक्ति में ,
कभी नैसर्गिक सौंदर्य से परिपूर्ण सृष्टि में ,
अंतर्दृष्टि जब परिमार्जित होती है ,
तब सर्वत्र व्याप्त ईश्वर अस्तित्व अनुभूति होती है,

456 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
23/211. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/211. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होली है!
होली है!
Dr. Shailendra Kumar Gupta
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
Er. Sanjay Shrivastava
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
बिल्ले राम
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
■ सूरते-हाल ■
■ सूरते-हाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
"वो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
💐प्रेम कौतुक-401💐
💐प्रेम कौतुक-401💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
"विक्रम" उतरा चाँद पर
Satish Srijan
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
*धन्य अयोध्या हुई जन्म-भू, जिनकी गरिमा पाई【मुक्तक】*
*धन्य अयोध्या हुई जन्म-भू, जिनकी गरिमा पाई【मुक्तक】*
Ravi Prakash
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
Bhupendra Rawat
Loading...