Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

अश्रु की भाषा

अश्रु की अपनी भाषा होती है।
कभी कष्ट के , तो कभी प्रसन्नता के ,

कभी आघात के , तो कभी पश्चाताप के ,
कभी मिलन के , तो कभी वियोग के,

कभी पाने के, तो कभी खोने के ,
कभी आभार के , तो कभी तिरस्कार के ,

कभी सम्मान के , तो कभी अपमान के ,
कभी कृतज्ञता के ,तो कभी विश्वासघात के,

ये मूक संवेदना के स्वर हैं।
ये हार्दिक अनुभूति मुदित सारगर्भित प्रखर हैंं।

Language: Hindi
1 Like · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
3002.*पूर्णिका*
3002.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी हाइकु
हिन्दी हाइकु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चोट शब्दों की ना सही जाए
चोट शब्दों की ना सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
*My Decor*
*My Decor*
Poonam Matia
तुम्हारी है जुस्तजू
तुम्हारी है जुस्तजू
Surinder blackpen
*सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)*
*सब पर मकान-गाड़ी, की किस्त की उधारी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
Ye sham adhuri lagti hai
Ye sham adhuri lagti hai
Sakshi Tripathi
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
Shweta Soni
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
Er. Sanjay Shrivastava
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
गुरुर
गुरुर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Manisha Manjari
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
Loading...