Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2018 · 1 min read

अश्क़ जब आँख से निकलते हैं

—–ग़ज़ल—–
2122-1212-22
1-
आतिशे-इश्क़ में यूँ जलते हैं
बर्फ भी आग अब उगलते हैं
2-
लोग जो मुफ़लिसी में पलते हैं
अपनी किस्मत पे हाथ मलते हैं
3-
चलके खंज़र की तेज धारों पर
दिल के अरमान कब निकलते हैं
5-
मुश्किलों से कभी न घबराना
फूल काँटों के बीच पलते हैं
5-
अक़्स उसका दिखाई देता है
अश्क़ जब आँख से निकलते हैं
6-
तीरग़ी मुश्किलों की मिट जाती
दीप उम्मीद के जो जलते हैं
7-
बस खुदा का ही नाम ले करके
रंज़ो-ग़म में भी हम सँभलते हैं
8-
हौसला हो जुनूँ की हद तक तो
आँधियों में चराग़ जलते हैं
9-
एक दिन ज़ायका खुशी का मिले
सोच कर हम तो ग़म निगलते हैं
10-
चाँद को देखकर सदा “प्रीतम”
हाथ अपना चकोर मलते हैं
**
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती(उ०प्र०)

175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
Taj Mohammad
तेरा इश्क मेरे दिल की दवा है।
तेरा इश्क मेरे दिल की दवा है।
Rj Anand Prajapati
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मन की गाँठें
मन की गाँठें
Shubham Anand Manmeet
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
नारी और चुप्पी
नारी और चुप्पी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
घाव बहुत पुराना है
घाव बहुत पुराना है
Atul "Krishn"
पल परिवर्तन
पल परिवर्तन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" हम तो हारे बैठे हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
*
*"गणतंत्र दिवस"*
Shashi kala vyas
भूली-बिसरी यादें
भूली-बिसरी यादें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
🙅लोकतंत्र में🙅
🙅लोकतंत्र में🙅
*प्रणय प्रभात*
_ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है_
_ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है_
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"अनपढ़ी किताब सा है जीवन ,
Neeraj kumar Soni
*देना प्रभु जी स्वस्थ तन, जब तक जीवित प्राण(कुंडलिया )*
*देना प्रभु जी स्वस्थ तन, जब तक जीवित प्राण(कुंडलिया )*
Ravi Prakash
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
3098.*पूर्णिका*
3098.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पलकों से रुसवा हुए,
पलकों से रुसवा हुए,
sushil sarna
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आशियाना
आशियाना
Dipak Kumar "Girja"
Loading...