Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

अविकसित अपनी सोच को

संसार के विषय-भोगो से,
मन विरक्त करो थोड़ा ॥
आत्मा के सुख का भी,
कुछ प्रबन्ध करो थोड़ा ।।

तुझमें मुझमें इसमें उसमें
, सब में उसका वास है ।
अविकसित अपनी सोच को,
विकसित करो थोड़ा ।।

सम्बन्धों की जीवंतता में,
मैं, का त्याग करो थोड़ा ।
जीभ पर अपनी मिश्री-मिश्रित
स्वाद धरो थोड़ा ।।

जीवन पथ का न हो,
मार्ग फ़िर अवरूद्ध ।
ज्ञान की प्रत्येक बात
पर जो ध्यान करो थोड़ा ॥।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

10 Likes · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
परिवर्तन
परिवर्तन
विनोद सिल्ला
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
Atul "Krishn"
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
मैं कीड़ा राजनीतिक
मैं कीड़ा राजनीतिक
Neeraj Mishra " नीर "
आम के छांव
आम के छांव
Santosh kumar Miri
दिल धोखे में है
दिल धोखे में है
शेखर सिंह
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
*पेट-भराऊ भोज, समोसा आलूवाला (कुंडलिया)*
*पेट-भराऊ भोज, समोसा आलूवाला (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कई तो इतना भरे बैठे हैं कि
कई तो इतना भरे बैठे हैं कि
*प्रणय प्रभात*
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
*ताना कंटक एक समान*
*ताना कंटक एक समान*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन मेरा क्यों उदास है.....!
मन मेरा क्यों उदास है.....!
VEDANTA PATEL
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ
माँ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जिंदगी कि सच्चाई
जिंदगी कि सच्चाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जय शिव शंकर ।
जय शिव शंकर ।
Anil Mishra Prahari
परत दर परत
परत दर परत
Juhi Grover
उस्ताद नहीं होता
उस्ताद नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
जीना भूल गए है हम
जीना भूल गए है हम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रिश्ते के सफर जिस व्यवहार, नियत और सीरत रखोगे मुझसे
रिश्ते के सफर जिस व्यवहार, नियत और सीरत रखोगे मुझसे
पूर्वार्थ
2478.पूर्णिका
2478.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
Loading...