Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 1 min read

अवध से राम जाते हैं,

अवध से राम जाते है,अवध से राम जाते है।
दया सुखधाम जाते है,अवध से राम जाते है।।

सजी दुल्हन सी अबधनगरी
अब राजा राम बन जायेंगे
पता किसको था क्या बोलो,
कि जोगी बन के वन जायेंगे,
कौशल्या से विदा लेते,
सुमित्रा से विदा लेते ।
झुका शीश केकई के,
पद,रज शीश लगा लेते,
मिलेंगे चौदह वर्षों बाद,
ये कह भगवान जाते है।।

अवध से राम जाते हैं,अवध से राम जाते हैं।
दया सुखधाम जाते हैं,अवध से राम जाते हैं

शिशु रोते,वृद्ध रोते,
कि खेवनहार जाते है।
जहां आनंद रहता था,
वहां तूफान आते हैं।।
बिलखते है पशु_पक्षी,
कि तारणहार जाते हैं ।
लखन सीता को संग लेकर
करुणा निधान जाते हैं।।

अवध से राम जाते हैं,अवध से राम जाते हैं।
दया सुखधाम जाते है,अवध से राम जाते हैं।।

नयन से बह रहे आंसू,
न अब आराम पाएंगे ।
विरह में राम की दशरथ,
प्राण अपने गवायेंगे ।
बिछड़ के राम से दसरथ,
न एकपल चैन पाएंगे ।।
लौटा लो रथ सुमंत जल्दी,
कि तन से प्राण जाते है ।।

अवध से राम जाते है,अवध से राम जाते है।
दया सुखधाम जाते है,अवध से राम जाते है।।

अनूप अम्बर,फर्रुखाबाद

242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
सूखी टहनियों को सजा कर
सूखी टहनियों को सजा कर
Harminder Kaur
छल
छल
Aman Kumar Holy
".... कौन है "
Aarti sirsat
कन्या रूपी माँ अम्बे
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
ଅଦିନ ଝଡ
ଅଦିନ ଝଡ
Bidyadhar Mantry
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
If We Are Out Of Any Connecting Language.
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
महामारी एक प्रकोप
महामारी एक प्रकोप
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
फितरत
फितरत
Sukoon
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
संस्मरण #पिछले पन्ने (11)
संस्मरण #पिछले पन्ने (11)
Paras Nath Jha
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
gurudeenverma198
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
दुर्योधन को चेतावनी
दुर्योधन को चेतावनी
SHAILESH MOHAN
अब जमाना आ गया( गीतिका )
अब जमाना आ गया( गीतिका )
Ravi Prakash
शायद आकर चले गए तुम
शायद आकर चले गए तुम
Ajay Kumar Vimal
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
"तोहफा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...