Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2024 · 1 min read

अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।

अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
भाव सुदामा राखिए, राधा जैसे नीर।।
अपनों से इस जंग में, कौन किसी के साथ,
लाज धर्म की द्रोपदी, बस आशा का चीर।।
सूर्यकांत

26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Manisha Manjari
मां जैसा ज्ञान देते
मां जैसा ज्ञान देते
Harminder Kaur
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
Who Said It Was Simple?
Who Said It Was Simple?
R. H. SRIDEVI
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
Shweta Soni
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Raju Gajbhiye
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
*पछतावा*
*पछतावा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
Sapna Arora
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
Neeraj Agarwal
"झाड़ू"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
किसी से उम्मीद
किसी से उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
15--🌸जानेवाले 🌸
15--🌸जानेवाले 🌸
Mahima shukla
2485.पूर्णिका
2485.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रोशनी का पेड़
रोशनी का पेड़
Kshma Urmila
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
तुम तो ठहरे परदेशी
तुम तो ठहरे परदेशी
विशाल शुक्ल
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...