Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

अर्जुन धुरंधर न सही …एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब

अर्जुन धुरंधर न सही …एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब तलक ..इजहार करना सीख लें @लक्ष्मण

1 Like · 429 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महिमा है सतनाम की
महिमा है सतनाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
जननी-अपना देश (कुंडलिया)
जननी-अपना देश (कुंडलिया)
Ravi Prakash
विनय
विनय
Kanchan Khanna
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
शेखर सिंह
2505.पूर्णिका
2505.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
काश कही ऐसा होता
काश कही ऐसा होता
Swami Ganganiya
होली पर बस एक गिला।
होली पर बस एक गिला।
सत्य कुमार प्रेमी
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
भ्रम
भ्रम
Dr.Priya Soni Khare
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
#जीवन एक संघर्ष।
#जीवन एक संघर्ष।
*Author प्रणय प्रभात*
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
shabina. Naaz
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
★अनमोल बादल की कहानी★
★अनमोल बादल की कहानी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
कवि दीपक बवेजा
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
मोमबत्ती जब है जलती
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
Loading...