Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2016 · 1 min read

अर्चना मेरी है तू

21-06-2016

सांसों में बसी है तू
ज़िन्दगी बनी है तू

तुझसे कैसे हूँ जुदा
दिल की आशिकी है तू

चाहें सब कहे गलत
मैं कहूँ सही है तू

मेरे सब सवालों का
बस जवाब ही है तू

डर नहीं अँधेरों का
मेरी रौशनी है तू

साये की तरह सदा
मेरे सँग चली है तू

भीगता रहे ये मन
सावनी झड़ी है तू

तुझमे ही दिखे खुदा
‘अर्चना’ मेरी है तू

डॉ अर्चना गुप्ता

3 Likes · 3 Comments · 447 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
तितलियाँ
तितलियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
कल भी था एक राही,
कल भी था एक राही,
Satish Srijan
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Surinder blackpen
*सफलता और असफलता सदा किस्मत से आती है (मुक्तक)*
*सफलता और असफलता सदा किस्मत से आती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
अपनेपन का मुखौटा
अपनेपन का मुखौटा
Manisha Manjari
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
Ram Krishan Rastogi
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
తెలుగు
తెలుగు
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अब इस मुकाम पर आकर
अब इस मुकाम पर आकर
shabina. Naaz
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-187💐
💐प्रेम कौतुक-187💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
शिव दोहा एकादशी
शिव दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,
पूर्वार्थ
"हश्र भयानक हो सकता है,
*Author प्रणय प्रभात*
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
ईनाम
ईनाम
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...