Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2017 · 1 min read

अरे ग्राम देवताओं शुभाशीष दो

अविचल, अशेष, अवशेष से खडे़,
निर्जन, श्मशान, क्षेत्रों में अडे़;
जंगम, प्रस्तरों पर करे निवास,
पीपर, आम तले हुआ अधिवास;

तुम ही सर्वश्रेष्ठ अरु मनीष हो,
अरे ग्राम देवताओं शुभाशीष दो।

हे क्षेत्रपाल! तुम अडिग हो,
हे अभय! तुम निर्भीक हो,
पथ से विमुख मनुज की राह हो,
हर क्लांत मन की आह हो;

हम नरों को कोई भली सीख दो,
अरे ग्राम देवताओं शुभाशीष दो।

नीरवता कभी तुम्हें सताती नहीं,
ग्रामवधु पूज तुम्हें अघाती नहीं;
अकाट्य है वार न होती चूक कोई,
मिटे विकलता बन उठे जो हूक कोई;

मिटे भाव वैर के आशीष दो,
अरे ग्राम देवताओं शुभाशीष दो।

दिन विशेष पर हे कुलीन तुम सजे,
ढोल, मजीरे और पिपही बजे;
हो जय हे सती, शीतला माई,
हो जय हे काली व बंदी माई;

वर हमें कोई अहो! अभीष्ट दो,
अरे ग्राम देवताओं शुभाशीष दो।

हे तेजा जी माथा तेरो चरण में,
हे गोगा जी भगत तेरो शरण में;
हे गहिल, हे मुड़ि़या बाबा लाज रख,
हे सल्हेस, गोरैया बाबा शीश हाथ रख;

हे बाबोसा, खाटू वाले तुम ही अधीष* हो,
अरे ग्राम देवताओं शुभाशीष दो।

संस्कारों को जो समेटे हुए,
परंपराओं को जो सहेजे हुए;
पर बने न ये कभी पाँव की बेडि़या,
न विस्तृत हो अंधविश्वास की हथेलियाँ;

ऐसा हे कुल देवता शीष दो,
अरे ग्राम देवताओं शुभाशीष दो।
सोनू हंस

Language: Hindi
300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पत्नी (दोहावली)
पत्नी (दोहावली)
Subhash Singhai
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
Sukoon
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
"हर रास्ते में फूलों से ना होगा सामना
कवि दीपक बवेजा
"चाहत का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
Anand Kumar
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
आज ही का वो दिन था....
आज ही का वो दिन था....
Srishty Bansal
सवाल~
सवाल~
दिनेश एल० "जैहिंद"
గురు శిష్యుల బంధము
గురు శిష్యుల బంధము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
■ यादगार लम्हे
■ यादगार लम्हे
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा स्वप्नलोक
मेरा स्वप्नलोक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
Ravi Prakash
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
Rj Anand Prajapati
Loading...