Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

अरुणोदय

यामिनी की कोख से
प्रसव होने को है
तैयार है दाई उषा
खुल चुका है, गर्भ का द्वार
बहने लगा है
रक्तिम प्रकाश
नवजात शिशु (अरुण) का
मोहक गुलाबी तन
देख पुलकित है दिशाएँ

पक्षियों ने गाए मंगल गान
बागों ने चटकाई कलियाँ
सूरजमुखी मुस्काया
पवन भी लहराई
वृक्षों ने बजाई बीन
पर्वत ने उसे काँधे पर बिठाया
फिर निर्झर की फिसलपट्टी
से खिल-खिल फिसल आया
धूमिल सी निर्झरिणी
झिलमिल सी हो उठी
शिशु दिनकर को गोद ले
झूला झुलाया ।

धरती की दुनिया भी आँख खोलने लगी
वृक्षों पर बुलबुल भी पाँख तौलने लगी
दिनकर का तेज देख काल-रात्रि भागी
नव उमंग, नव स्फूर्ति जन-जन में जागी।

डॉ. मंजु सिंह गुप्ता

Language: Hindi
1 Like · 82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
मजबूरी
मजबूरी
The_dk_poetry
दान
दान
Mamta Rani
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
gurudeenverma198
"सफाई की चाहत"
*Author प्रणय प्रभात*
Fool's Paradise
Fool's Paradise
Shekhar Chandra Mitra
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
समय का खेल
समय का खेल
Adha Deshwal
2868.*पूर्णिका*
2868.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"काफ़ी अकेला हूं" से "अकेले ही काफ़ी हूं" तक का सफ़र
ओसमणी साहू 'ओश'
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
"पंखों वाला घोड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
DrLakshman Jha Parimal
फागुन
फागुन
Punam Pande
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
खैरात में मिली
खैरात में मिली
हिमांशु Kulshrestha
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
Loading...