Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2024 · 1 min read

अरब खरब धन जोड़िये

अरब खरब धन जोड़िये
कीजिये लाख फरेब
इसे रखोगे आप कहाँ
नहीं है कफ़न मे कोई जेब

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
Phool gufran
"साइंस ग्रुप के समान"
Dr. Kishan tandon kranti
शादी
शादी
Adha Deshwal
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
Interest
Interest
Bidyadhar Mantry
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
Ravi Prakash
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
सब कुछ मिले संभव नहीं
सब कुछ मिले संभव नहीं
Dr. Rajeev Jain
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
Ranjeet kumar patre
ऐसे हैं हम तो, और सच भी यही है
ऐसे हैं हम तो, और सच भी यही है
gurudeenverma198
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
बुद्ध
बुद्ध
Bodhisatva kastooriya
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
2845.*पूर्णिका*
2845.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हज़ारों साल
हज़ारों साल
abhishek rajak
करूँ प्रकट आभार।
करूँ प्रकट आभार।
Anil Mishra Prahari
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
" मटको चिड़िया "
Dr Meenu Poonia
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
Loading...