Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

अम्बर में अनगिन तारे हैं।

अम्बर में अनगिन तारे हैं।

रोज रात में खिल जाते हैं
आपस में हिलमिल जाते हैं,
रखते उर में वैर नहीं हैं
मिलते जैसे गैर नहीं हैं।

भूतल से लगते न्यारे हैं
अम्बर में अनगिन तारे हैं।

टिमटिम करके रैन सजाते
लगते सुर में हैं सब गाते,
रात-रात भर जगने वाले
शुभ्र-ज्योत्सना मुख पर डाले।

नूतन ही लगते सारे हैं
अम्बर में अनगिन तारे हैं।

कितने तारे टूट पड़े हैं
नील गगन से छूट पड़े हैं,
नहीं भाग्य का रोना रोते
दामन अपना नहीं भिगोते।

विपदा से ये कब हारे हैं
अम्बर में अनगिन तारे हैं।

आता जब उज्ज्वल प्रभात है
तारों की रहती न पाँत है,
थके-थके से घर को जाते
नई चेतना फिर भर लाते।

रात्रि पुनः खिलते प्यारे हैं
अम्बर में अनगिन तारे हैं।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पश्चिम हावी हो गया,
पश्चिम हावी हो गया,
sushil sarna
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़िंदगी हम भी
ज़िंदगी हम भी
Dr fauzia Naseem shad
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
यूनिवर्सिटी के गलियारे
यूनिवर्सिटी के गलियारे
Surinder blackpen
💐अज्ञात के प्रति-151💐
💐अज्ञात के प्रति-151💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
1
1
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"जीवन की अंतिम यात्रा"
Pushpraj Anant
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"डिब्बा बन्द"
Dr. Kishan tandon kranti
गौरवपूर्ण पापबोध
गौरवपूर्ण पापबोध
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
“ बधाई आ शुभकामना “
“ बधाई आ शुभकामना “
DrLakshman Jha Parimal
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
व्यस्तता जीवन में होता है,
व्यस्तता जीवन में होता है,
Buddha Prakash
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा"
Vijay kumar Pandey
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
जाम पीते हैं थोड़ा कम लेकर।
सत्य कुमार प्रेमी
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
"खाली हाथ"
Er. Sanjay Shrivastava
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
surenderpal vaidya
Loading...