Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2017 · 1 min read

अभिव्यक्ति

“अभिव्यक्ति”
——————-

कभी-कभी
जब भी बनता हूँ !
तेरे एहसास का बिन्दु
तो एहसास मेरे !
छू जाते हैं !
तेरे अन्तर्मन को !
तब होती है !
गुफ्तगू !
इन एहसासों की
और उड़ने लगते हैं
उन्मुक्त होकर
स्नेह-आकाश में !
तेरा स्नेहिल-स्पर्श
रोमांचित करता है
मेरे हर पल को
मेरे इस जीवन को !
और जीता हूँ !
मैं बनकर
तेरी ही अभिव्यक्ति !!
—————————-
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Language: Hindi
415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
वक़्त होता
वक़्त होता
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
Ravi Prakash
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
Shweta Soni
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"आलिंगन"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
राम
राम
umesh mehra
बावरी
बावरी
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुशी के पल
खुशी के पल
RAKESH RAKESH
रिश्ते
रिश्ते
Punam Pande
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
"चैन से इस दौर में बस वो जिए।
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
Loading...