Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 3 min read

अभिव्यक्ति की सामरिकता – भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav

अभिव्यक्ति की सामरिकता:
अभिव्यक्ति की सामरिकता एक महत्वपूर्ण विषय है जिस पर विभिन्न दृष्टिकोण होते हैं। कुछ लोग यह मानते हैं कि अभिव्यक्ति का हक आदिकारिक, राजनीतिक और सामरिक माध्यमों के साथ जुड़ा होना चाहिए, ताकि लोग अपनी बात कह सकें और समाज के बदलाव की मांग कर सकें। उनका यह विचार होता है कि जब तक अभिव्यक्ति को स्वतंत्रता और विविधता के साथ व्यक्त किया नहीं जाएगा, तब तक सामान्य लोगों की आवाज़ें सुनी नहीं जाएंगी और समाज के विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श नहीं हो पाएगा। इसके अतिरिक्त, राजनीतिक और सामरिक माध्यमों को अभिव्यक्ति के लिए एक माध्यम के रूप में देखा जाता है, जो लोगों को संघर्षों, विचारों और मतभेदों को साझा करने का मौका देता है। ये माध्यम लोगों को जागरूक करते हैं और सामाजिक परिवर्तन को प्रोत्साहित करते हैं। राजनीतिक माध्यम लोगों को नीतिगत परिवर्तन को प्रोत्साहित करने और सरकारी निर्णयों पर प्रभाव डालने का माध्यम होता हैं। सामरिक माध्यम उन लोगों को सम्मिलित करते हैं जो एक ही रुचि के कारण समुदाय के भीतर एकता बनाने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि, यह विचार भी मान्य है कि अभिव्यक्ति को एक निजी मामला माना जाना चाहिए और उसे सरकारी नियंत्रण या समाजिक प्रतिबंधों के द्वारा प्रभावित नहीं किया जाना चाहिए। इस परिप्रेक्ष्य में, अभिव्यक्ति को स्वतंत्र और अविष्कारी रूप में माना जाता है, जिससे लोग समाज के मुद्दों पर स्वतंत्र रूप से विचार-विमर्श करते हैं और सुनने योग्य मान्यताओं और विचारों का आनंद लेते हैं। इन विचारों के आधार पर, यह निर्णय करना मुश्किल होता है कि अभिव्यक्ति की सामरिकता क्या होनी चाहिए। इसमें व्यक्तिगत मतभेद, संघर्ष और सामाजिक परिवर्तन के बीच संतुलन रखना महत्वपूर्ण होता है। यह विषय विवादास्पद है और व्यक्ति के व्यक्तिगत मान्यताओं और दृष्टिकोण पर निर्भर करता है।

संघर्ष और स्वाधीनता:
संघर्ष और स्वाधीनता दो महत्वपूर्ण अंश हैं जो किसी भी अभिव्यक्ति की प्रक्रिया में विचार करने के लिए महत्वपूर्ण हैं। संघर्ष और स्वाधीनता दोनों ही अभिव्यक्ति को प्रभावित करने और आदर्श रूप से उसकी स्वतंत्रता को निर्माण करने में मदद करते हैं, लेकिन इन दोनों के प्रभाव और भूमिका में कुछ अंतर होता है। संघर्ष सामाजिक रूप से अपने विचारों को व्यक्त करने की क्षमता पर प्रभाव डालता है। जब कोई व्यक्ति अपने विचारों को प्रदर्शित करने के लिए संघर्ष करता है, तो वह सामाजिक मान्यता, परंपरा, और सामाजिक संरचना के साथ खड़ा होता है। इस प्रक्रिया में, संघर्ष उन धारणाओं और सिद्धांतों के सामर्थ्य को परखता है जिन पर समाज निर्मित होता है, और वह व्यक्ति उन धारणाओं को चुनने और स्वीकार करने की क्षमता को विकसित करता है जो उसे अपने विचारों को प्रकट करने के लिए सशक्त बनाते हैं। दूसरी ओर, व्यक्ति की स्वाधीनता उसकी अभिव्यक्ति को प्रभावित करती है, लेकिन कई बार यह उसे निर्बंधित नहीं करती है। स्वाधीनता व्यक्ति को अपने विचारों को स्वतंत्रतापूर्वक व्यक्त करने की स्वतंत्रता प्रदान करती है, जिससे उसे समाज में अद्यतित और विचारशील ढंग से रहने की स्वतंत्रता मिलती है। हालांकि, कुछ समयों में, व्यक्ति की स्वाधीनता पर प्रभाव डालने वाले कारक, जैसे समाजिक, सांस्कृतिक, और राजनीतिक दबाव, उसकी अभिव्यक्ति को निर्बंधित करते हैं। संक्षेप में कहें तो, संघर्ष और स्वाधीनता दोनों ही अभिव्यक्ति की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण हैं। संघर्ष व्यक्ति को सामाजिक मान्यता के खिलाफ अपने विचारों की पुष्टि करने में मदद करता है, जबकि स्वाधीनता उसे अपनी अभिव्यक्ति को स्वतंत्रतापूर्वक व्यक्त करने की स्वतंत्रता प्रदान करती है, हालांकि, कई बार स्वाधीनता पर प्रभाव डालने वाले कारक उसे निर्बंधित करते हैं।

आगे पढने के लिए हमारे ब्लॉग पर जाए ओर पढ़े

Desert Fellow Rakesh Yadav
8251028291

207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Oh, what to do?
Oh, what to do?
Natasha Stephen
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
लोकतंत्र
लोकतंत्र
करन ''केसरा''
3151.*पूर्णिका*
3151.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
बेफिक्री की उम्र बचपन
बेफिक्री की उम्र बचपन
Dr Parveen Thakur
"अमरूद की महिमा..."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब
ख़्वाब
Monika Verma
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
मैं उसे पसन्द करता हूं तो जरुरी नहीं कि वो भी मुझे पसन्द करे
मैं उसे पसन्द करता हूं तो जरुरी नहीं कि वो भी मुझे पसन्द करे
Keshav kishor Kumar
"रंगमंच पर"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
Harminder Kaur
प्रसाद का पूरा अर्थ
प्रसाद का पूरा अर्थ
Radhakishan R. Mundhra
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि की याद में लिखी गई एक कविता
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि की याद में लिखी गई एक कविता "ओमप्रकाश"
Dr. Narendra Valmiki
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...