Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 2 min read

अभिनय से लूटी वाहवाही

जब कोई व्यक्ति सतत प्रयासों से सफलता प्राप्त कर लेता है ,तो वह समाज के लिए अनूठी मिसाल बन जाता है।संघर्षरत लोग ऐसे व्यक्तियों को अपना आदर्श मान उनका अनुशरण करना आरंभ कर देते हैं। कड़ी मेहनत के दम पर करनाल जिले के गांव गुनियाना के निवासी संजीव सेलवाल ने भी एक्टिंग तथा डायरेक्शन के क्षेत्र में सफलता हासिल की है।हिंदी पंजाबी तथा हरियाणवी गानों में इनके नाम की तूती बोलती है।स्वभाव से सरल तथा सदैव शांत दिखने वाले संजीव सेलवाल का काम आज हरियाणा ही नहीं बल्कि आस पास के प्रदेशों में भी धूम मचाए हुए है।इनके पिता सोमदत्त जांगड़ा जहां फर्नीचर व्यवसाय से जुड़े हुए हैं वहीं इनकी माता राजबाला एक कुशल गृहणी हैं।
कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से मास कम्युनिकेशन में स्नातक की डिग्री प्राप्त संजीव सेलवाल को एक्टिंग तथा डायरेक्शन का शौक बचपन से ही रहा है।उम्र के साथ -साथ इनका यह शौक कब जुनून में बदल गया इन्हें इसका खुद ही पता नहीं चला। हरयाणवी गाने थारी भाभी, डिवोर्स , मीठी मीठी तथा यार दोबारा मिलेगा इत्यादि गानों में संजीव ने अपने अभिनय के दम पर हरियाणा ही नहीं बल्कि पड़ोसी राज्यों के दर्शकों को भी अपना मुरीद बनाया हुआ है।तलाक तथा थारी भाभी गानों ने तो संजीव को घर -घर प्रसिद्ध करने का कार्य किया है।इसके अतिरिक्त संजीव सेलवाल ने भक्ति भजनों में भी मॉडलिंग की है।भक्ति रस से आच्छादित “हरियाणे की डाक” तथा “शंकर-शंकर ” सावन माह में डीजे पर बजने वाले पसंदीदा हरियाणवी गाने रहे हैं।इन दोनों गानों को शिव भगतों ने काफी पसंद किया था। इसके अतिरिक्त संजीव सेलवाल ने डायरेक्शन के क्षेत्र में भी अपने हाथ आजमाएं हैं।इन्होंने जिन गानों में डायरेक्शन की है उनमें प्रमुख रूप से तेरी याद ,आँखों में किसी की , गोरा बदन, डिवोर्स इत्यादि प्रमुख गाने हैं।संजीव सेलवाल एक अच्छे कैमरामैन भी हैं। कैमरामैन के तौर पर संजीव सेलवाल “यार दोबारा मिलेगा, काश असीं मिल जांदे , तलाक तथा तेनु याद करके एवं मनमानियां जैसे बेहतरीन गाने शूट कर चुके हैं।फिलहाल संजीव सेलवाल कुछ वेब सीरीज तथा टेलीफिल्म्स बनाने में व्यस्त हैं। उनका कहना है कि सभी वेब सीरीज़ तथा टेलीफिल्म्स जल्दी ही रिलीस कर दी जाएंगी।अभी इनका अंतिम चरण का काम चल रहा है। अपनी सफलता का श्रेय संजीव सेलवाल अपने माता -पिता तथा चाचा मुकेश जांगड़ा को ही देते हैं।संजीव का कहना है कि उनके माता -पिता तथा चाचा ने उन्हें पग -पग पर सहयोग दिया है।उनके सहयोग के कारण ही मैं यहां तक पहुंच पाया हूँ।नवोदित कलाकारों को भी संजीव यहीं संदेश देना चाहते हैं कि अथक परिश्रम तथा सकारात्मक दृष्टिकोण के बूते सफलता प्राप्त की जा सकती है। निराशा को कभी भी स्वम् पर हावी न होने दें तथा सदैव प्रयत्नशील रहें इसी से सफलता का मार्ग प्रशस्त होगा।

-नसीब सभ्रवाल “”अक्की” ,
बांध,पानीपत-132107 हरियाणा
मो.न.-9716000302

Language: Hindi
1 Like · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
DrLakshman Jha Parimal
वीणा का तार 'मध्यम मार्ग '
वीणा का तार 'मध्यम मार्ग '
Buddha Prakash
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
नेताम आर सी
हे कलम
हे कलम
Kavita Chouhan
!! वीणा के तार !!
!! वीणा के तार !!
Chunnu Lal Gupta
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
मौसम - दीपक नीलपदम्
मौसम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
देखना हमको
देखना हमको
Dr fauzia Naseem shad
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
जवाला
जवाला
भरत कुमार सोलंकी
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
पिछले पन्ने भाग 1
पिछले पन्ने भाग 1
Paras Nath Jha
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
पापा आपकी बहुत याद आती है !
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
3062.*पूर्णिका*
3062.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...