Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2019 · 1 min read

अभिनंदन

सकुशल लौटा वीर,
शौर्य पुत्र अभिनंदन है।
मन प्रफुल्लित,हम गर्वित,
वायु पुत्र को हमारा वंदन है।
शीतल हुआ ,वापसी से
माँभारती का आँचल है।
गदगद हुआ मन,नम आँखे,
सकुशल लौटा,देश का नंदन है।
अभिनंदन आपका, अभिनंदन है
???????✌️✌️✌️
??जय हिंद ??वंदे मातरम्??

रेखा कापसे

Language: Hindi
3 Likes · 444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/237. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
Sampada
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
अनुराग
अनुराग
Sanjay ' शून्य'
💐प्रेम कौतुक-536💐
💐प्रेम कौतुक-536💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
Kanchan Alok Malu
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
Ram Krishan Rastogi
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
मन में सदैव अपने
मन में सदैव अपने
Dr fauzia Naseem shad
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उन से कहना था
उन से कहना था
हिमांशु Kulshrestha
#प्रभा कात_चिंतन😊
#प्रभा कात_चिंतन😊
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Yaade tumhari satane lagi h
Yaade tumhari satane lagi h
Kumar lalit
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"गुलजार"
Dr. Kishan tandon kranti
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...