Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

अब रह ही क्या गया है आजमाने के लिए

अब रह ही क्या गया है आजमाने के लिए
कुछ देखने के लिए या दिखाने के लिए
खुद को झुका दिया हमने बाबा के दरबार में
दो हाथ आगे आ गए मुझको उठाने के लिए

– हरवंश हृदय, बांदा

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम का राज्याभिषेक
राम का राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
If our kids do not speak their mother tongue, we force them
If our kids do not speak their mother tongue, we force them
DrLakshman Jha Parimal
Love's Sanctuary
Love's Sanctuary
Vedha Singh
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
धीरे धीरे  निकल  रहे  हो तुम दिल से.....
धीरे धीरे निकल रहे हो तुम दिल से.....
Rakesh Singh
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
पत्नी के डबल रोल
पत्नी के डबल रोल
Slok maurya "umang"
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इस संसार में क्या शुभ है और क्या अशुभ है
इस संसार में क्या शुभ है और क्या अशुभ है
शेखर सिंह
2984.*पूर्णिका*
2984.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रक्तदान
रक्तदान
Neeraj Agarwal
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
"तिलचट्टा"
Dr. Kishan tandon kranti
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुरीयों के बावजूद...
दुरीयों के बावजूद...
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
Loading...