Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2022 · 1 min read

अब न पछताओगी तुम हमसे मिलके

🌹गजल 🌹
अब न पछताओगी तुम हमसे मिल के,
हमने भी होठ सी लिए है तुमसे मिल के।।

अब न मिलेगे तुमसे अब कभी दुबारा,
करीब न आयेगे अब तुम्हारे दिल के।।

उम्मीदों के फूल जो लगाए थे दिल में,
मुरझा जाएंगे हर बार खिल खिल के।।

पड़ा था तेरे आगोस में जब मौत मेरी आई,
अब न उठूंगा मैं चाहे रो मिल मिल के।।

कर लो जितनी कोशिश ये दिल न धड़केगा,
ये धड़कने बन्द हो जाएगी जरा ही हिल के।।

रस्तोगी कभी न आयेगे तेरे अब दर पे,
चाहे रो लेना जितना मुझसे गले मिल के।।

आर के रस्तोगी,
गुरुग्राम

Language: Hindi
5 Likes · 9 Comments · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी बेटी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
💐प्रेम कौतुक-477💐
💐प्रेम कौतुक-477💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मासूम गुलाल (कुंडलिया)
मासूम गुलाल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
सत्य कुमार प्रेमी
"मेरी दुनिया"
Dr Meenu Poonia
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
sushil sarna
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
*Author प्रणय प्रभात*
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
गिरगिट
गिरगिट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
मारुति
मारुति
Kavita Chouhan
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
मजबूरी तो नहीं
मजबूरी तो नहीं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
कलमी आजादी
कलमी आजादी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...