Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

अब न तुमसे बात होगी…

अब न तुमसे बात होगी।
अनमनी हर रात होगी।
अब न होंगे चाँद- तारे,
ना रुपहली रात होगी।

कुछ पलों की जिंदगानी,
कुछ पलों में ढेर होगी।
दो घड़ी भी ‘गर मिले तो,
दो घड़ी क्या बात होगी ?

चाँद भी रूठा हुआ -सा,
चाँदनी भी सुस्त -सी है।
कुलमुलाते -से सितारे,
क्या हसीं अब रात होगी ?

अब अकेले इन दिनों का,
गम सहारा है हमारा।
रात साए में अमा के,
बात किसको ज्ञात होगी ?

बुझ रही है दीप की लौ,
टूटती -सी श्वास भी अब,
ख्वाब में ही आ मिलो तो,
साथ ये सौगात होगी।

कीं कभी जो बात तुमसे,
आ रहीं अब याद हमको।
आज नयनों से हमारे,
आखिरी बरसात होगी।

आखिरी ये रात होगी
अब न तुमसे बात होगी….

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र. )

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
shabina. Naaz
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
💐प्रेम कौतुक-307💐
💐प्रेम कौतुक-307💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धार में सम्माहित हूं
धार में सम्माहित हूं
AMRESH KUMAR VERMA
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
Har subha uthti hai ummid ki kiran
Har subha uthti hai ummid ki kiran
कवि दीपक बवेजा
3106.*पूर्णिका*
3106.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
योग
योग
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मित्रता
मित्रता
Mahendra singh kiroula
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
कूड़े के ढेर में
कूड़े के ढेर में
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
Neelam Sharma
■ भड़की हुई भावना■
■ भड़की हुई भावना■
*Author प्रणय प्रभात*
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
Vishal babu (vishu)
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
खुला खत नारियों के नाम
खुला खत नारियों के नाम
Dr. Kishan tandon kranti
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
Loading...