Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 1 min read

अब तो मज़हब (ग़ज़ल)

ग़ज़ल

अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए।
जिसको हर इंसान द्वारा मन से फैलाया जाए।

होंगी फिर इस मुल्क़ में भी कुछ नयीं तारीखें।
क्यो न हर बुराई को अच्छाई में ढ़लाया जाए।

लेके कुछ फ़न कुछ ग़ुर पूर्वजो महानुभावो के।
घोल सा उनका बनाकर भावी पीढ़ी को पिलाया जाए।

हो वो ज़मज़म-चिनाब़ गंगा या यमुना का जल।
जल को जल कहे कोई फर्क उनमें न लाया जाए।

जो चले थामें वतन को सीप में मोती के जैसे।
पूज उनको सामने उनकेे सजदे में सिर को झुकाया जाए।

बॉटतें है मुल्क़ को जो सिर्फ अपने स्वार्थ को-ए-सुधा।
अधिकार है जनता को यें उनको सुलाया जाए।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
*बड़ मावसयह कह रहा ,बरगद वृक्ष महान ( कुंडलिया )*
*बड़ मावसयह कह रहा ,बरगद वृक्ष महान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तितली
तितली
Manu Vashistha
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस दिल में .....
इस दिल में .....
sushil sarna
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
Shweta Soni
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
Ram Krishan Rastogi
ये सच है कि उनके सहारे लिए
ये सच है कि उनके सहारे लिए
हरवंश हृदय
"प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...