Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

अब जमाना आ गया( गीतिका )

अब जमाना आ गया( गीतिका )
“””””””””””””””””””””'”””””””””””””””””””””””
फेसबुक या व्हाट्सएप का, अब जमाना आ
गया
अच्छा हुआ हमको कि जो, इनको चलाना
आ गया (1)

डाकिए की शक्ल देखे, एक अरसा हो चुका
चिट्ठियों ! अब तो हमें, तुमको भुलाना आ गया(2)

जिनको समझते थे सरल, सीधा सदा निर्दोष
हम
अब सुना है उनको भी, पीना-पिलाना आ
गया (3)

सोहबतों का है असर, या फिर जमाने की हवा
रिश्वतें सबको मजे से, खूब खाना आ गया(4)

बातें करेंगे चार गज की, इंच-भर हिलना नहीं
गाल देखो जाने किन, किनको बजाना आ गया(5)

सब समस्याओं का केवल, एक हल आया
समझ
” हम दो हमारे दो “, सु-राहों पर जो जाना आ
गया (6)

अक्सर बहस में जीतने का, अर्थ होता हार है
जीत उसकी है जिसे, सिर को झुकाना आ
गया (7)
“”””””””””””””””””””””‘”””””””””””””””””””””””
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा,रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
अजब तमाशा जिन्दगी,
अजब तमाशा जिन्दगी,
sushil sarna
अन्याय होता है तो
अन्याय होता है तो
Sonam Puneet Dubey
मीना
मीना
Shweta Soni
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम के खातिर न जाने कितने ही टाइपिंग सीख गए,
प्रेम के खातिर न जाने कितने ही टाइपिंग सीख गए,
Anamika Tiwari 'annpurna '
"बगुला भगत"
Dr. Kishan tandon kranti
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता : शत - शत प्रणाम*
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता : शत - शत प्रणाम*
Ravi Prakash
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग
दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग
shabina. Naaz
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
ख्वाब
ख्वाब
Dinesh Kumar Gangwar
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
One-sided love
One-sided love
Bidyadhar Mantry
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
होना नहीं अधीर
होना नहीं अधीर
surenderpal vaidya
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
समझ
समझ
Shyam Sundar Subramanian
रमेशराज के दो लोकगीत –
रमेशराज के दो लोकगीत –
कवि रमेशराज
नफरतों से अब रिफाक़त पे असर पड़ता है। दिल में शक हो तो मुहब्बत पे असर पड़ता है। ❤️ खुशू खुज़ू से अमल कोई भी करो साहिब। नेकियों से तो इ़बादत पे असर पड़ता है।
नफरतों से अब रिफाक़त पे असर पड़ता है। दिल में शक हो तो मुहब्बत पे असर पड़ता है। ❤️ खुशू खुज़ू से अमल कोई भी करो साहिब। नेकियों से तो इ़बादत पे असर पड़ता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"सियासत का सेंसेक्स"
*प्रणय प्रभात*
राम नाम  हिय राख के, लायें मन विश्वास।
राम नाम हिय राख के, लायें मन विश्वास।
Vijay kumar Pandey
Loading...