Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

अब गुमाँ तुझको कैसे आया है

अब गुमाँ तुझको कैसे आया हैं
क्यूँ मुहब्बत से दिल सजाया हैं

नफ़रती बस्तियों में उसने’ कहीं
आशियाँ फिर से’ इक बसाया है

क्यों नक़ाबों का आसरा लेना
रुख़ पे परदा ये क्यूँ गिराया है

क़ैदे’ हसरत की’ जेल में आकर
क्यूँ हरिक दर पे सर झुकाया है

देखना सूखे’ इन दरख्तों को
अब फ़िज़ा ने इन्हें जलाया है

ख़ुश्क आँखों से उम्र भर रोए
नीर आँखों का जब सुखाया है

आशिक़ी कर तू’ ऐसी जज़्बाती
रब से दिल हमने अब लगाया है
जज़्बाती

203 Views
You may also like:
'कृषि' (हरिहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
" अभिव्यक्ति "
DrLakshman Jha Parimal
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! "...
VEDANTA PATEL
अपने कदमों को बस
Dr fauzia Naseem shad
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
चाहे जितनी देर लगे।
Buddha Prakash
दिव्यांग भविष्य की नींव
Rashmi Sanjay
हम रात भर यूहीं तरसते रहे
Ram Krishan Rastogi
मुझको क्या मतलब तुमसे
gurudeenverma198
पैसे की अहमियत
Chaudhary Sonal
गलती का भी हद होता है ।
Nishant prakhar
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
रामायण भाग-2
Taj Mohammad
नया दौर का नया प्यार
shabina. Naaz
कभी खुद से भी तो बात करो
Satish Srijan
अपने पथ आगे बढ़े
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️'रामराज्य'
'अशांत' शेखर
छलिया जैसा मेघों का व्यवहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
राजनीति मे दलबदल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Writing Challenge- सौंदर्य (Beauty)
Sahityapedia
दिल्ली का प्रदूषण
लक्ष्मी सिंह
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राजनीति का सर्कस
Shyam Sundar Subramanian
औलाद
Sushil chauhan
*टैगोर काव्य गोष्ठी 15 नवंबर 2022*
Ravi Prakash
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
महंगाई का क्या करें?
Shekhar Chandra Mitra
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
Loading...