Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2024 · 1 min read

” अब कोई नया काम कर लें “

“अब कोई नया काम कर लें”
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
====================
बहुत हो गया है
आराम अपना
चलो उठके अब
कोई नया काम कर लें
सोने से अब
कुछ ना पाएंगे हम
चलो आगे बढ़
कोई नया नाम कर लें !!
अंधेरे में जो हैं
पड़े आज तक
शिक्षा की लौ को
जलाना पड़ेगा
अंधेरे में जो आज
भटके हुये हैं
मंज़िल उन्हें भी
दिखाना पड़ेगा
शिक्षा का दीपक
बुझने ना पाये
चलो उठके अब
इसका सौगंध खा लें
सोने से अब कुछ
ना पाएंगे हम
चलो आगे बढ़
कोई नया नाम कर लें
करें प्यार सबसे
मिलके रहें हम
नफरत कभी भी
ना आने पाये
सब धर्मों का
एक ही गुण हो
सब की पूजा
सब कोई कर पाये
मतभेद कभी भी
ना उपजे मन में
चल कर कुछ हम
अब कोई काम कर लें
सोने से अब कुछ
ना पाएंगे हम
चलो आगे बढ़
कोई नया नाम कर लें
युद्ध की विभीषिका
बढ़ने न दें
शांति से समृद्धि
गुण गाते जाएँ
विध्वंषक प्रवृतिओं
को रोक कर
एक स्वर्ग सा
धरती बनाते जाएँ
शांति के प्रयासों से
इस जग को
चलो स्वर्ग बनाने का
आज इंतजाम कर लें
सोने से अब कुछ
ना पाएंगे हम
चलो आगे बढ़
कोई नया नाम कर लें
बहुत हो गया है
आराम अपना
चलो उठके अब
कोई नया काम कर लें
सोने से अब कुछ
ना पाएंगे हम
चलो आगे बढ़
कोई नया नाम कर लें !!
=================
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
12.03.2024

Language: Hindi
1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
The_dk_poetry
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
*प्रभु का संग परम सुखदाई (चौपाइयॉं)*
*प्रभु का संग परम सुखदाई (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
बेटियां
बेटियां
Dr Parveen Thakur
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
कोरोना का आतंक
कोरोना का आतंक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
// जय श्रीराम //
// जय श्रीराम //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
माँ दुर्गा की नारी शक्ति
कवि रमेशराज
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
Phool gufran
स्त्री
स्त्री
Dinesh Kumar Gangwar
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
गरीबी
गरीबी
Neeraj Agarwal
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"अजीब रवायतें"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...