Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।

अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
RJ Anand Prajapati

87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
******शिव******
******शिव******
Kavita Chouhan
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
दिल पर करती वार
दिल पर करती वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
Shekhar Chandra Mitra
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
लफ्ज़
लफ्ज़
Dr Parveen Thakur
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
singh kunwar sarvendra vikram
"सफर,रुकावटें,और हौसले"
Yogendra Chaturwedi
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
Ravi Prakash
हमको गैरों का जब सहारा है।
हमको गैरों का जब सहारा है।
सत्य कुमार प्रेमी
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
ब्राह्मण
ब्राह्मण
Sanjay ' शून्य'
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
Anil chobisa
मुर्शिद क़दम-क़दम पर नये लोग मुन्तज़िर हैं हमारे मग़र,
मुर्शिद क़दम-क़दम पर नये लोग मुन्तज़िर हैं हमारे मग़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"उम्मीद"
Dr. Kishan tandon kranti
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
फ़ब्तियां
फ़ब्तियां
Shivkumar Bilagrami
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...