Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 2 min read

अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है

अपमान समारोह : बुरा न मानो होली है(हास्य व्यंग्य) ————————————————
महोदय
होली के उपलक्ष्य में एक अपमान – समारोह का आयोजन किया जा रहा है , जिसमें आप अपमान सहित आमंत्रित हैं । समारोह निर्धारित समय के कम से कम दो घंटे बाद शुरू होगा । लेकिन आपको अगर अपमानित होना है ,तो समय से कम से कम 15 मिनट पहले आकर स्टूल पर बैठना पड़ेगा । जब आपका नंबर आएगा ,तब आप लाइन में लगिए और मंच पर जाकर अपना अपमान – पत्र ग्रहण कर लीजिए । अगर आने में आपने देर की या लाइन में ढंग से नहीं लगे ,तो फिर उसी समय आपका नाम अपमानित होने वाले व्यक्तियों की सूची से काट दिया जाएगा ।
फूलों की माला कम बजट के कारण छोटी रखी गई है । अगर आपके गले में आ जाए तो पहन लेना वरना ज्यादा नखरे दिखाने की जरूरत नहीं है । हाथ में लेकर काम चला लेना ।
शाल मँहगा है। 40 रुपए में आजकल नहीं मिल रहा है। वैसे भी आपने अपमानित होने के लिए जो सुविधा- शुल्क दिया है ,वह इतना कम है कि उसमें शाल तो छोड़िए, रुमाल भी कहाँ से खरीद कर लाया जा सकता है !
आपका कोई प्रशस्ति पत्र पढ़कर नहीं सुनाया जाएगा ,क्योंकि आपके जीवन में ऐसा कुछ है ही नहीं, जिसे समाज के सामने प्रेरणा के तौर पर रखा जा सके या आपकी तारीफ की जा सके।आपको भी यह बात पता ही है तथा आप जानते हैं कि आपको अपमानित केवल जुगाड़बाजी के आधार पर किया जा रहा है ।
अपमान- पत्र के साथ आपको 420 रुपए का चेक भेंट किया जाएगा । यह चेक उसी दिशा में दिया जाएगा ,जब आप आयोजकों को पहले से 420 रुपए नगद पेमेंट कर देंगे ।
नोट : अगर मोटी धनराशि का सुविधा शुल्क देने के लिए कोई तैयार हो और पहले से पेमेंट करे तो हाथों-हाथ उसका भी अपमान- समारोह में अपमान कर दिया जाएगा।
————————————————-
निवेदक : अपमान समारोह समिति (बुरा न मानो होली है)
—————————————————-
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 999 7615 451

360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दूसरी दुनिया का कोई
दूसरी दुनिया का कोई
Dr fauzia Naseem shad
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*परिवार: सात दोहे*
*परिवार: सात दोहे*
Ravi Prakash
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
Surinder blackpen
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
"कैफियत"
Dr. Kishan tandon kranti
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आगाह
आगाह
Shyam Sundar Subramanian
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
करे मतदान
करे मतदान
Pratibha Pandey
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
आप कोई नेता नहीं नहीं कोई अभिनेता हैं ! मनमोहक अभिनेत्री तो
DrLakshman Jha Parimal
2273.
2273.
Dr.Khedu Bharti
■ व्हीआईपी कल्चर तो प्रधान सेवक जी ने ख़त्म करा दिया था ना...
■ व्हीआईपी कल्चर तो प्रधान सेवक जी ने ख़त्म करा दिया था ना...
*Author प्रणय प्रभात*
आएंगे तो मोदी ही
आएंगे तो मोदी ही
Sanjay ' शून्य'
मुहब्बत
मुहब्बत
Dr. Upasana Pandey
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
7) “आओ मिल कर दीप जलाएँ”
Sapna Arora
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
तितली
तितली
Manu Vashistha
*दिल का आदाब ले जाना*
*दिल का आदाब ले जाना*
sudhir kumar
Loading...