Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

अपने मन के भाव में।

अपने मन के भाव में,
खुद की करती खोज।
शब्दों के मोती सजा
मैं लिखती हर रोज़।।

उड़ूँ कल्पना संग मैं,
पकड़ कलम की डोर।
अद्भुत अविरल ये छटा,
करती भाव विभोर।।
मन्त्र मुग्ध मन हो गया,
मुखड़े पर है ओज।
अपने मन के भाव में,
खुद की करती खोज।

सागर-सी लहरें उठीं,
मन में मचे हिलोर।
भँवर जाल में मैं फँसी,
शब्द मचाए शोर।।
टूट पड़े है भाव सब,
जैसे करते भोज।
अपने मन के भाव में,
खुद की करती खोज।

दीन दुखी को देखकर,
झरते नैना कोर।
सबअँधियारा दूर कर,
करता शीतल भोर।।
महक रही मैं इत्र-सी,
अंतस खिले सरोज।
अपने मन के भाव में,
खुद की करती खोज।।

अपने मन के भाव में,
खुद की करती खोज।
शब्दों के मोती सजा
मैं लिखती हर रोज़।।

-वेधा सिंह
स्वरचित

Language: Hindi
Tag: गीत
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"फितूर"
Dr. Kishan tandon kranti
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
"बेवकूफ हम या गालियां"
Dr Meenu Poonia
बाकी सब कुछ चंगा बा
बाकी सब कुछ चंगा बा
Shekhar Chandra Mitra
........,
........,
शेखर सिंह
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
गुजार दिया जो वक्त
गुजार दिया जो वक्त
Sangeeta Beniwal
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
👌
👌
*Author प्रणय प्रभात*
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*तपन*
*तपन*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बीमारी से सब बचें, हों सब लोग निरोग (कुंडलिया )
बीमारी से सब बचें, हों सब लोग निरोग (कुंडलिया )
Ravi Prakash
फटा जूता
फटा जूता
Akib Javed
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
संत साईं बाबा
संत साईं बाबा
Pravesh Shinde
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
💐प्रेम कौतुक-460💐
💐प्रेम कौतुक-460💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
Er. Sanjay Shrivastava
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...