Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2016 · 1 min read

अपने बाप से बाप कहूंगा

अपने बाप को बाप कहूंगा

अमर दलित समुदाय का एक नौकरीपेशा व्यक्ति था। वह जब भी अपने समाज के लोगों के सामने होता उन्हें पढ़ने लिखने और संघटित हो संघर्ष करने की स्लाह देता। लोग उसे बहुत सम्मान देते। एक दिन वो अपने पड़ोसी अनपढ़ मजदूर युवक को साथ ले नजदीक के शहर गया। रास्ते में वे एक दूकान पर रुके। वहां उपस्थित कई लोग थे, उनमे चर्चा चल रही थी शादी विवाह को लेकर। बेवजह दूसरों की बात में बोल पड़ने की बुरी आदत के कारण अमर उन लोगों की चर्चा में हस्तक्षेप कर बैठा। वो अच्छा वक्ता था, ज्ञानी था, वहां उपस्थित सभी लोग उसकी बातों से बहुत प्रभावित हुए। तभी उनमें से एक व्यक्ति ने अमर से पूंछा -भाई साहब! यहाँ हम सभी लोग तो लोधी राजपूत हैं, आप कौन सी बिरादरी से हो? अमर ने तपाक से कहा – मैं राजपूत ठाकुर हूँ। तभी दूसरे व्यक्ति ने अमर के साथी युवक से पूंछा कि भाई साहब आप चौहान तो नहीं लगते हो, आप किस बिरादरी के हैं? इस पर वह मजदूर दलित(जाटव) युवक बोला- भाई साहब! मैं तो अपने बाप से बाप कहता हूँ, दुसरे को नहीं, मैं तो जाटव हूँ, जिसे आप लोग चमार भी कहते हैं। अमर सिर्फ मुँह देखने के सिवाय कुछ न कह सका।

– डॉ विजेन्द्र प्रताप सिंह

Language: Hindi
1 Like · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
जगदीश शर्मा सहज
भाईदूज
भाईदूज
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
Monika Arora
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी सिंह
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
*जीवन साथी धन्य है, नमस्कार सौ बार (पॉंच दोहे)*
*जीवन साथी धन्य है, नमस्कार सौ बार (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गजल
गजल
Punam Pande
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
सच में शक्ति अकूत
सच में शक्ति अकूत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
Mahendra Narayan
इंसानो की इस भीड़ में
इंसानो की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
* मधुमास *
* मधुमास *
surenderpal vaidya
टुकड़े हुए दिल की तिज़ारत में मुनाफे का सौदा,
टुकड़े हुए दिल की तिज़ारत में मुनाफे का सौदा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
नया युग
नया युग
Anil chobisa
बेईमानी का फल
बेईमानी का फल
Mangilal 713
"चिराग"
Ekta chitrangini
Loading...