Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

अपनी धरती कितनी सुन्दर

अपनी धरती कितनी सुन्दर,
कितना सुंदर वन उपवन यहाँ,
हरे- भरे पेड़ और पौधे,
हरियाली इसकी है शान।

अपनी धरती कितनी सुन्दर,
ऊँचे पर्वत शिखरे अपार,
जहाँ होते है मेघों का दीदार,
पार्वतमालाएं धरा का अभिमान।

अपनी धरती कितनी सुन्दर,
जहाँ मौसम के कई बहार,
वर्षा , गर्मी – सर्दी का प्यार,
वसंत ऋतु धरा में खुशहाल।

अपनी धरती कितनी सुन्दर,
सागर नदियाँ झील सरोवर,
तरोताज़ा करते धरती का मन,
जल धरा का अभिन्न अंग।

अपनी धरती कितनी सुन्दर,
वन्य जीव और पशु-पक्षी,
कोलाहल करते भरते सुर,
प्राणी है धरा का अभूषण।

🙏 बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-244💐
💐प्रेम कौतुक-244💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"खूबसूरती"
Dr. Kishan tandon kranti
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
*वोट को डाले बिना, हर तीर्थ-यात्रा पाप है (मुक्तक)*
*वोट को डाले बिना, हर तीर्थ-यात्रा पाप है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।
पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मीलों का सफर तय किया है हमने
मीलों का सफर तय किया है हमने
कवि दीपक बवेजा
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
*Author प्रणय प्रभात*
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
गुज़िश्ता साल -नज़्म
गुज़िश्ता साल -नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
Surinder blackpen
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
जी रहे है तिरे खयालों में
जी रहे है तिरे खयालों में
Rashmi Ranjan
अधमी अंधकार ....
अधमी अंधकार ....
sushil sarna
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
Bhupendra Rawat
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
Arvind trivedi
*शिव शक्ति*
*शिव शक्ति*
Shashi kala vyas
Never forget
Never forget
Dhriti Mishra
अभी और कभी
अभी और कभी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...