Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2017 · 1 min read

~~अपनी तो ऐसे ही चलेगी~~

देखो, आज
गुजर गए हैं
२५ साल , हम से
तुम को मिले हुए
अब भी बच्चों की तरह
झगड़ते हो
क्यूं तुम
ऐसा करते हो,
क्या तुम को इस में
कुछ आनंद मिलता है
क्यूं नादान
से बनके शरारत करते हो
देखो,
धर्मपत्नी जी
हम तो ऐसे ही
रहेंगे, हर वक्त
तुमको रहना है यहाँ
मुझ को भी
फिर देखो
वो ख़ामोशी सी
अछि नहीं लगती
थोडा गुस्सा
साथ प्यार तकरार
न हुई तो क्या कहंगी
यह घर की दीवार
एक हलचल सी
जरूरी है हर बार
दिल तो वो ही है
बेशक गुजर गए
हो इतने साल, कैसे न
याद करें वो बीते साल
जब मिले थे हम
दोनों उस बार
किस के पास जाकर
करें हम यह तकरार
एक तुम ही तो, जो
सहती हो मेरे
गुस्से का अत्याचार
यह प्यार है, कुछ
और नहीं,
बस वक्त के साथ बढती जायेगी
दोनों के प्यार की फुहार
हर बार,
थोड़ी थोड़ी से कर लिया
करेंगे, तकरार..
हहहहहःहहहाहा

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
433 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
कोई आरज़ू नहीं थी
कोई आरज़ू नहीं थी
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
Praveen Bhardwaj
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
Sonam Puneet Dubey
मोहब्बत ना-समझ होती है समझाना ज़रूरी है
मोहब्बत ना-समझ होती है समझाना ज़रूरी है
Rituraj shivem verma
मा शारदा
मा शारदा
भरत कुमार सोलंकी
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
दूर अब न रहो पास आया करो,
दूर अब न रहो पास आया करो,
Vindhya Prakash Mishra
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सादगी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*नजर के चश्मे के साथ ऑंखों का गठबंधन (हास्य व्यंग्य)*
*नजर के चश्मे के साथ ऑंखों का गठबंधन (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
Sunil Maheshwari
प्रेम के रंग कमाल
प्रेम के रंग कमाल
Mamta Singh Devaa
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी वही जिया है जीता है,जिसको जिद्द है ,जिसमे जिंदादिली ह
जिंदगी वही जिया है जीता है,जिसको जिद्द है ,जिसमे जिंदादिली ह
पूर्वार्थ
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
आख़िरी इश्क़, प्यालों से करने दे साकी-
आख़िरी इश्क़, प्यालों से करने दे साकी-
Shreedhar
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
पसीने वाली गाड़ी
पसीने वाली गाड़ी
Lovi Mishra
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...