Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2024 · 1 min read

अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके

अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
ज्यादा अनमोल रहोगे तो तन्हा रह जाओगे …

1 Like · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
..
..
*प्रणय प्रभात*
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
Manisha Manjari
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
2400.पूर्णिका
2400.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख्याल (कविता)
ख्याल (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बेटियां
बेटियां
Neeraj Agarwal
मेरे कृष्ण की माय आपर
मेरे कृष्ण की माय आपर
Neeraj Mishra " नीर "
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
यादों के संसार की,
यादों के संसार की,
sushil sarna
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
HEBA
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
Sukoon
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
Shweta Soni
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
निबंध
निबंध
Dhirendra Singh
आव्हान
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
अगर आपको किसी से कोई समस्या नहीं है तो इसमें कोई समस्या ही न
अगर आपको किसी से कोई समस्या नहीं है तो इसमें कोई समस्या ही न
Sonam Puneet Dubey
Loading...