Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

अपनी इबादत पर गुरूर मत करना…….

अपनी इबादत पर गुरूर मत करना…….
थोड़ी ही करना इबादत चाहे
पर इंसानियत का हक़ अदा जरूर करना

1 Like · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अतिथि देवो न भव
अतिथि देवो न भव
Satish Srijan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
ममता
ममता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता
कविता
Rambali Mishra
ख़त आया तो यूँ लगता था,
ख़त आया तो यूँ लगता था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2764. *पूर्णिका*
2764. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब मैं लिखता हूँ
जब मैं लिखता हूँ
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
हाँ मैन मुर्ख हु
हाँ मैन मुर्ख हु
भरत कुमार सोलंकी
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
Dr fauzia Naseem shad
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िस्म की खुश्बू,
ज़िस्म की खुश्बू,
Bodhisatva kastooriya
पल-पल यू मरना
पल-पल यू मरना
The_dk_poetry
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
किसान
किसान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Try to find .....
Try to find .....
पूर्वार्थ
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
Loading...