Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

*अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)*

अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)
________________________
अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान
कवि लेखक संगीत-गुरु, इसकी ऊॅंची शान
इसकी ऊॅंची शान, किनारे कोसी बहती
गॉंधीजी की भस्म, भव्यता के सॅंग रहती
कहते रवि कविराय, रियासत कहिए सपना
अब गणतंत्र महान, जिला कहलाता अपना
————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
Gatha ek naari ki
Gatha ek naari ki
Sonia Yadav
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
gurudeenverma198
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
#सामयिक_कविता
#सामयिक_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अर्थ  उपार्जन के लिए,
अर्थ उपार्जन के लिए,
sushil sarna
मिलन की वेला
मिलन की वेला
Dr.Pratibha Prakash
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
सारा शहर अजनबी हो गया
सारा शहर अजनबी हो गया
Surinder blackpen
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
नेताम आर सी
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Dr.Rashmi Mishra
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
भागअ मत, दुनिया बदलअ
भागअ मत, दुनिया बदलअ
Shekhar Chandra Mitra
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
DrLakshman Jha Parimal
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...