Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳

अनेक में एकता

एक बगिया के फूल हैं हम,
एक हमारा माली है,
भिन्न-2 रंग हो चाहें,
एक हमारी डाली हैं।

देश मेरा बड़ा रंगीला,
भिन्न रंगों से सजा सजीला,
भिन्न हुए प्रान्त तो क्या,
देश हमारा एक है।

विकास की ओर बढ़ता हुआ,
जज़्बा हमारा एक है।
भिन्न हुई बोली तो क्या,
भावना तो एक हैं।

प्रेम बसा दिलों में हैं,
आत्मा तो एक है,
भिन्न हुई वेशभूषा तो क्या,
इंसान के नाते एक है।

इंसानियत बसी रोम-2 में,
जीने की कला तो एक है,
भिन्न हुए धर्म तो क्या,
विचार हमारे नेक है।

पूजा पद्धति अलग तो क्या
अभ्यर्थना भी एक है,
भिन्न हुए नृत्य तो क्या,
संस्कृति तो अभिन्न हैं।

कश्मीर से कन्याकुमारी तक,
देश मेरा फैला हुआ,
भिन्न-2 हुए क्षेत्र तो क्या,
राष्ट्रीयगान तो एक है।

जब-2 भारत माँ ने पुकारा,
वीरों ने कुर्बानियाँ दी,
अलग-2 घरों से हैं,
राष्ट्रभक्ति तो एक है।

एक ही माला के फूल सब,
रूप अनेक ईश्वर एक है,
श्वास-2 में बसी ‘मधुर’
प्रतिच्छाया भी तो एक है।

✍️माधुरी शर्मा मधुर
अंबाला हरियाणा।

Language: Hindi
64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
Yogini kajol Pathak
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
पूर्वार्थ
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
दूर हमसे वो जब से जाने लगे हैंं ।
Anil chobisa
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
Ravi Prakash
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
3413⚘ *पूर्णिका* ⚘
3413⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
"मजदूर"
Dr. Kishan tandon kranti
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
तारीफ आपका दिन बना सकती है
तारीफ आपका दिन बना सकती है
शेखर सिंह
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अग्निवीर*
*अग्निवीर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भोर होने से पहले .....
भोर होने से पहले .....
sushil sarna
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तन्हाई
तन्हाई
Surinder blackpen
फ़ासला गर
फ़ासला गर
Dr fauzia Naseem shad
मूरत
मूरत
कविता झा ‘गीत’
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ बेचारे...
■ बेचारे...
*Author प्रणय प्रभात*
छद्म शत्रु
छद्म शत्रु
Arti Bhadauria
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
Loading...