Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2017 · 1 min read

!! अनाड़ी लोग-जानते सब हैं !!

हर कोई जानता है
तेरे दर पर जो अर्पित
कर रहा हूँ, वो तेरी
झोली में नहीं जाना है !!

उस का इस्तेमाल का
तो औरों ने फायदा
उठाना है, बस यह तो
इक नया बहाना है !!

प्रसाद तो ठीक है
जिस को सभी ने खाना है
सोना , चादी, बेशुमार धन
यह कहाँ पर जाना है !!

हमारा धर्म ही है कुछ ऐसा
जो ग्रस्त है रूढ़िवादी से
जहाँ कह दिया पंडों ने
बस, वहीँ पे मस्तक झुकाना है !!

कर दिया तो तसल्ली हो गयी
न किया तो दिमाग घुमाना है
न सो सको, न जाग सको
फिर आना सपना अनजाना है !!

घबराहट से परेशां दिल सबका
दुःख दुःख से परेशां होना है
दिन निकलते ही पकड़ कुंडली
पंडों से ही मिलने जाना है !!

दुनिया तेरी बड़ी निराली
जानती सब कुछ पर अनजान है
जो लिखा है तूने तकदीर में
उस से बच के कहाँ जाना है !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए  ( गीत )*
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए ( गीत )*
Ravi Prakash
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"मार्केटिंग"
Dr. Kishan tandon kranti
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Sakshi Tripathi
बदलते चेहरे हैं
बदलते चेहरे हैं
Dr fauzia Naseem shad
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
1🌹सतत - सृजन🌹
1🌹सतत - सृजन🌹
Dr Shweta sood
उजले दिन के बाद काली रात आती है
उजले दिन के बाद काली रात आती है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-164💐
💐प्रेम कौतुक-164💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्ते बनाना आसान है
रिश्ते बनाना आसान है
shabina. Naaz
गीत
गीत
Mahendra Narayan
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
Keshav kishor Kumar
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
■ एक ही सवाल ■
■ एक ही सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...