Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 2 min read

*अध्याय 11*

अध्याय 11
रामप्रकाश जी को सुंदर लाल जी के वियोग की पीड़ा

दोहा

गए मनुज संसार से, टूटे सब संबंध
फूल झरा जो डाल से, रहती किंतु सुगंध

1)
ताऊ सुंदर लाल खो गए राम प्रकाश व्यथित थे
उनका तन मन प्राण सभी कुछ ताऊ को अर्पित थे
2)
हृदय रो रहा था उनका, मन में ऑंधी आती थी
यह वियोग की पीड़ा उनसे सही नहीं जाती थी
3)
ताऊ के सॅंग जीवन के जो तीस वर्ष बीते थे
वह अक्षय निधि अगर नहीं तो जीवन से रीते थे
4)
अहो विधाता ने कैसी यह निष्ठुर रीति बनाई
जिसने पाला मुझे, चिता में उसके आग लगाई
5)
अरे-अरे क्यों क्रूर मृत्यु इस जीवन में आती है
क्यों हमसे यह अरे छीनकर प्रियजन ले जाती है
6)
क्यों मिलता है हमें प्रेम फिर उसको हैं हम खोते
देव-देव हे क्रूर अरे तुम देखो हमको रोते
7)
छीन लिया ताऊ को मुझसे अब मैं क्यों जीता हूॅं
अरे-अरे मैं तनिक कामना से बिल्कुल रीता हूॅं
8)
कहते राम प्रकाश देव यह क्या तुमने कर डाला
छीन लिया क्यों उन बॉंहों को मुझे जिन्होंने पाला
9)
सदा रहे तुम ताऊ मुझको केवल देने वाले
नहीं रहे तुम कभी देवता किंचित लेने वाले
10)
तुमने मुझको सब कुछ सौंपा, अपना प्यार दिया था
तुमने कभी न चाहा मुझसे केवल प्यार किया था
11)
यह था प्यार विलक्षण तुमने यह जो मुझे दिया था
नहीं सोचता जग में कोई तुम-सा कहीं जिया था
12)
तुम्हें हर घड़ी हर पल मेरी चिंता सिर्फ सताती
मेरे शुभ की एक कामना केवल तुमको आती
13)
अरे-अरे यह प्यार भला मैं कब कैसे पाऊॅंगा
मैं कंगाल तुम्हें खोकर आजीवन हो जाऊॅंगा
14)
देवदूत बनकर तुम मेरे जीवन में आए थे
रहित कामना से हो सब कुछ मेरे हित लाए थे
15)
अरे अभागा मैं तुमको अर्पण कुछ कब कर पाया
मुझे गोद ले नहीं तुम्हारे कुछ हिस्से में आया
16)
चले गए मुझको सब देकर देवलोक को पाया
किंतु अभागा मैं मैंने वह दिया सिर्फ ही खाया
17)
नहीं-नहीं संतोष नहीं मुझको जीवन में आता
नहीं मानता मन मेरा क्या तुमसे इतना नाता
18)
कैसे भूलूॅं भला संग जो बरसों-बरस बिताए
कैसे भूलूॅं भला प्यार के क्षण जो तुमसे पाए
19)
जग में नहीं मिलेगा तुम जैसा नि:स्वार्थ निराला
जिसने नहीं कामना पाले सुत औरों का पाला
20)
तुम ताऊ हो मेरे जीवन के तुम ही हो नायक
तुम ही मुझे व्यग्र करते हो तुम ही हो सुखदायक
21)
ताऊ सुंदर लाल याद में जितने आते जाते
राम प्रकाश युवक के ऑंसू और-और गहराते
22)
भला कहॉं साकार तुम्हारी छवि को मैं पाऊॅंगा
नश्वर तन जो मिला धूल में कैसे बिसराऊॅंगा
23)
कहो विधाता क्यों ऐसे छोटे संबंध बनाते
पलक झपकते ही जीवन में जो ओझल हो जाते
24)
अगर तोड़ना ही था नाता क्यों संबंध बनाया
क्यों यह गहरे रोम-रोम में तुमने देव बिठाया
25)
कैसे भूलूॅं मुझे याद तुम रोज बहुत आते हो
कभी रुलाते हो वियोग में, पर सुख दे जाते हो

दोहा

जीवन में आता रहा, मिलना और बिछोह
देह और संसार से, करना कभी न मोह
__________________________________________________

75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
लाख संभलते संभलते भी
लाख संभलते संभलते भी
हिमांशु Kulshrestha
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
बेदर्दी मौसम🙏
बेदर्दी मौसम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अनुसंधान
अनुसंधान
AJAY AMITABH SUMAN
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
जगदीश शर्मा सहज
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3510.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3510.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
"Stop being a passenger for someone."
पूर्वार्थ
हर जमीं का आसमां होता है।
हर जमीं का आसमां होता है।
Taj Mohammad
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
रेत पर
रेत पर
Shweta Soni
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
अगर प्रेम में दर्द है तो
अगर प्रेम में दर्द है तो
Sonam Puneet Dubey
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
Sarfaraz Ahmed Aasee
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
" बंध खोले जाए मौसम "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सूरज दादा
सूरज दादा
डॉ. शिव लहरी
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
वज़्न -- 2122 1122 1122 22(112) अर्कान -- फ़ाइलातुन - फ़इलातुन - फ़इलातुन - फ़ैलुन (फ़इलुन) क़ाफ़िया -- [‘आना ' की बंदिश] रदीफ़ -- भी बुरा लगता है
वज़्न -- 2122 1122 1122 22(112) अर्कान -- फ़ाइलातुन - फ़इलातुन - फ़इलातुन - फ़ैलुन (फ़इलुन) क़ाफ़िया -- [‘आना ' की बंदिश] रदीफ़ -- भी बुरा लगता है
Neelam Sharma
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
*प्रणय प्रभात*
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
Keshav kishor Kumar
तू ही मेरा रहनुमा है
तू ही मेरा रहनुमा है
Monika Arora
*बाजारों में अब कहॉं, माॅलों में हैं लोग (कुंडलिया)*
*बाजारों में अब कहॉं, माॅलों में हैं लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...