Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है

दुःख व सुख में साथ रहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है

जीवन का नौका जब डगमगाता है
अपना ही कोई साथ निभाता है
मन सूखे पत्ते की तरह कांपता है
जब वक्त अपने मीटर से नापता है

समय के साथ खुद ढलना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है

जिसने ठुकराया उसका एहसान है
पैरों पे खड़े हैं खुद की पहचान है
जिंदगी जीने की कला आ गयी
जिम्मेदारियां बखूबी निभा गयी

हिम्मत के साथ सम्हलना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है

रातों को नींद उड़ जाया करती है
जब भी बुरे सपने रूलाया करती है
जरूरत से ज्यादा इच्छा के गुलाम
रहने लगते हैं बैचैन सुब्ह-ओ-शाम

आसमां से जमीं पर उतरना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है ।

नूर फातिमा खातून “नूरी”
जिला -कुशीनगर

Language: Hindi
1 Like · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
■ एक मार्मिक तस्वीर पर मेरा एक तात्कालिक शेर :--
■ एक मार्मिक तस्वीर पर मेरा एक तात्कालिक शेर :--
*प्रणय प्रभात*
23/47.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/47.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा होकर मिलो
मेरा होकर मिलो
Mahetaru madhukar
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
-बहुत देर कर दी -
-बहुत देर कर दी -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
Neelam Sharma
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
Vandna thakur
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
शेखर सिंह
इतनी के बस !
इतनी के बस !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
आज़ के रिश्ते.........
आज़ के रिश्ते.........
Sonam Puneet Dubey
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
पूर्वार्थ
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...