Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2023 · 1 min read

अधिकांश होते हैं गुमराह

आत्मा अजर अमर
बतलाते सभी पुराण
वो नित्य, निरंतर ईश
वश रहती है गतिमान
विधि के आदेश पर वो
धरे वसुधा पर कोई देह
नियत समय के बाद ही
वो बदल ले अपना गेह
परमात्मा से मिलन को
हर पल रहती बेकरार
इस सत्य को समझ के
करते ज्ञानी आत्मोद्धार
भव बंधन में फंस करके
अधिकांश होते हैं गुमराह
परमात्मा को छोड़कर वो
पालते भौतिकता की चाह
अपने मन में ईश्वर के प्रति
रखिए प्रबल श्रद्धा का भाव
वह ही दूर करेगा जीवन से
आपके सभी तरह के अभाव

Language: Hindi
2 Likes · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
थे कितने ख़ास मेरे,
थे कितने ख़ास मेरे,
Ashwini Jha
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
We just dream to  be rich
We just dream to be rich
Bhupendra Rawat
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
2549.पूर्णिका
2549.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
★मृदा में मेरी आस ★
★मृदा में मेरी आस ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"प्रेम के पानी बिन"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
करगिल विजय दिवस
करगिल विजय दिवस
Neeraj Agarwal
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ruby kumari
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
Sanjay ' शून्य'
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
VINOD CHAUHAN
मैं भारत हूँ
मैं भारत हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...