Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।

अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
मौसम है मधुमास का, अंग-अंग पर आब।।

खिली कली कचनार की, दहका फूल पलाश।
नव लतिकाएँ बाँचतीं, ऋत्विक नव्य हुलास।।
©® सीमा अग्रवाल

Language: Hindi
2 Likes · 340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
*अंतिम समय बीते कहाँ, जाने कहाँ क्या ठौर हो 【मुक्तक】*
*अंतिम समय बीते कहाँ, जाने कहाँ क्या ठौर हो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"हैसियत"
Dr. Kishan tandon kranti
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
2435.पूर्णिका
2435.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"एक भगोड़ा"
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक प्यार ऐसा भी
एक प्यार ऐसा भी
श्याम सिंह बिष्ट
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
लड़कों का सम्मान
लड़कों का सम्मान
पूर्वार्थ
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
ज्ञान क्या है
ज्ञान क्या है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
Kirti Aphale
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
Loading...