Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

अत्याचार अन्याय से लड़ने, जन्मा एक सितारा था

अत्याचार अन्याय से लड़ने, जन्मा एक सितारा था
मानवता के लिए समर्पित, जग की आंख का तारा था
नस्ल धर्म और जाति भेद को, अत्याचार बताया था
सत्य अहिंसा को जिसने, अपना हथियार बनाया था
दुनिया को जागृत करने, गांधी जग में आया था
रंगभेद जब चरम पर था, गांधी ने प्रतिरोध किया
आज धरा पर जीने का, सबको समान अधिकार दिया
सत्य अहिंसा और शांति, जिसके रग रग में बसती थी
अंत किया साम्राज्यवाद का, गांधी जग में हस्ती थी
आजादी की लड़ाई लड़ी, लाठी गोली से नहीं डरे
अहिंसक विरोध सिखाया , मानवता के लिए जिए
अन्याय अज्ञान गरीबी, सारी दुनिया में फैली थी
ग्राम स्वराज लघु उद्योग, गांधी की सफल कहानी थी
अपने शुभ आदर्शों से, दुनिया को पैगाम दिया
स्वच्छ और स्वस्थ जीवन, गांधी ने देश का नाम किया
हिंसा से हिंसा होती है, जग को यह समझाया
अपनी सत्य और निष्ठा से, अहिंसा का पाठ पढ़ाया

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
"तानाशाही"
*Author प्रणय प्रभात*
श्रीराम गाथा
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
"मानद उपाधि"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
क्या है नारी?
क्या है नारी?
Manu Vashistha
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
लौटना मुश्किल होता है
लौटना मुश्किल होता है
Saraswati Bajpai
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
Khaimsingh Saini
निशाना
निशाना
अखिलेश 'अखिल'
3255.*पूर्णिका*
3255.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
शहज़ादी
शहज़ादी
Satish Srijan
ना सातवें आसमान तक
ना सातवें आसमान तक
Vivek Mishra
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
Ravi Prakash
" वो क़ैद के ज़माने "
Chunnu Lal Gupta
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...