Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

*अज्ञानी की कलम*

अज्ञानी की कलम
भूप कांपने लगे परशु राम जी को देखकर।
सांसें फूलने लगी ऋषिवर का कूप देखकर।।
काल के गाल में जायगा-नज़र से नज़र हेरकर।
प्रार्थना जनक जी करें- सर और नज़रें झुकाकर।।
भूप मन में सोचें फ़ज़ल जीवित भागे यूं जां बचाकर।।
कुसंगति का बोल बाला देख लो जग घूमकर।
घरों के टूकड़े है करायें-कुलक्ष्मीं आई ब्याह कर।।
कोई ज्ञानी महाज्ञानी मुझे यह बताएं,
क्यों टूड़वाये स्वयंवर में धनुष तूड़वाकर।।
और भी तो ब्याह हुए हैं विधि की बताकर।
अज्ञानी जग में ज्ञानी जहां पर छोड़ते,
वहीं से ज्ञान गंगा तुम दिखलाओ बहाकर।।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झांसी बुन्देलखण्ड

355 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
अधबीच
अधबीच
Dr. Mahesh Kumawat
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
इंजी. संजय श्रीवास्तव
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
खालीपन
खालीपन
MEENU
ज़िंदगी में बेहतर नज़र आने का
ज़िंदगी में बेहतर नज़र आने का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
बूढ़ा बापू
बूढ़ा बापू
Madhu Shah
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
When winter hugs
When winter hugs
Bidyadhar Mantry
"सौगात"
Dr. Kishan tandon kranti
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
अंधभक्तो अगर सत्य ही हिंदुत्व ख़तरे में होता
अंधभक्तो अगर सत्य ही हिंदुत्व ख़तरे में होता
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
बिखरे सपने
बिखरे सपने
Kanchan Khanna
*मोबाइल पर पढ़ते बच्चे (बाल कविता)*
*मोबाइल पर पढ़ते बच्चे (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिंदगी की पहेली
जिंदगी की पहेली
RAKESH RAKESH
दोस्ती के नाम
दोस्ती के नाम
Dr. Rajeev Jain
Loading...