Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 2 min read

अजन्मी बेटी का प्रश्न!

ओ बाबुल मैं भी तो थी
तेरे आँगन का फूल।
फिर क्यों समझा तुमने बाबुल,
मुझको अपने आँगन की शूल।

क्यों शूल समझकर तुमने बाबुल,
मुझे अपने जीवन से निकाल दिया।
इस दुनिया में आने से पहले ही,
क्यों मेरा जीवन छिन लिया।

आखिर क्या थी मेरी भूल बाबुल,
जिसकी सजा तुमने यह दिया।
छिन लिया मेरा जीवन बाबुल
ऐसा तुमने क्यों किया।

मैने तो तुमसे बाबुल
कुछ नही मांगा था,
बस अपने लिए जीवन और
थोड़ा सा प्यार तुमसे चाहा था।

तुम अगर दे देते बाबुल
थोड़ी सी अपने आँगन का धूल।
मै उस थोड़े धूल में ही बाबुल
खुशी-खुशी खिल जाती।
खिलकर तेरे आँगन में बाबुल
मै अपनी खुशबू से महकाती।

पर तुमने तो बाबुल मुझसे
मेरा जीवन ही छिन लिया।
बिटिया नाम सुनते ही,
मुझे मारने का हुक्म सुना दिया।

मै चीख-चीखकर तुमसे बाबुल,
अपने लिए जीवन दान मांग रही थी।
खामोशी भरे शब्द लिए मैं,
रहम के लिए चिल्ला रही थी।

थोड़ा सा अगर तुम धीरज धर लेते,
मेरी आवाज को तुम सुन पाते ।
फिर नही ऐसे तुम बाबुल
मेरी मौत का सौदा करते।
नही बनते तुम हैवान बाबुल,
नही बनते तुम हत्यारे।

अगर मन की आँख खोलकर
तुम देखते अगर यह संसार ।
बिटिया कैसे रचती है
यह सारा संसार ।

बिटिया नही हो इस जग में तो
कहां है जीवन और संसार।
हमने ही तो बढाया है बाबुल
इस जग में वंश रूपी आधार।

फिर क्यों करते हो बाबुल
तुम सब मेरा तिरस्कार ।
जब मै नही रहूंगी बाबुल,
कहां से आएगा,
जिसको तुम कहते हो चिराग।

बेटा अगर चिराग है बाबुल
मै रोशनी हूँ इस जग की।
मै नही रहूंगी बाबुल तो
सारा जग रहेगा अंधियारा ।

फिर सिर्फ तुम चिराग
लेकर क्या करोगे बाबुल
जब संसार में नही रहेगा
रोशनी देने वाली,
यह बिटिया रूप हमारा।

इसलिए तुमसे मेरी
गुजारिश है बाबुल।
अगली बार जब बेटी हो,
इस संसार मे आने देना।
इस जग का आधार है वो
उसको नही मिटा देना।

एक बार मेरे प्रश्न को बाबुल
धैर्य से तुम सुन लेना
जब रोशनी ही नही रहेगी,
फिर कैसे तुम सिर्फ चिराग से
दूर कर पाओगे इस जग का अंधियारा ।

अनामिका

7 Likes · 10 Comments · 402 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद्दारी ( लघुकथा)
खुद्दारी ( लघुकथा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
माँ
माँ
Arvina
है श्रेष्ट रक्तदान
है श्रेष्ट रक्तदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"जानो और मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
■ इस बार 59 दिन का सावन
■ इस बार 59 दिन का सावन
*Author प्रणय प्रभात*
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
✍️ख्वाहिशें जिंदगी से ✍️
✍️ख्वाहिशें जिंदगी से ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
आगाज़
आगाज़
Vivek saswat Shukla
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
*लेटलतीफ: दस दोहे*
*लेटलतीफ: दस दोहे*
Ravi Prakash
मैं उड़ सकती
मैं उड़ सकती
Surya Barman
Every morning, A teacher rises in me
Every morning, A teacher rises in me
Ankita Patel
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
Loading...