Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2023 · 1 min read

अपनी सोच

अच्छी या बुरी अपनी लिखावट को अंजाम दे ही देता हूं उधार की सोच से कभी सुर्खियां नहीं बटोरी मैंने!!

_ रवि मौर्या

1 Like · 320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
जिंदगी की पहेली
जिंदगी की पहेली
RAKESH RAKESH
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
Arvind trivedi
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
Neeraj Agarwal
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
कलयुगी की रिश्ते है साहब
कलयुगी की रिश्ते है साहब
Harminder Kaur
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
कितना प्यार करता हू
कितना प्यार करता हू
Basant Bhagawan Roy
*****आज़ादी*****
*****आज़ादी*****
Kavita Chouhan
नेता बनाम नेताजी(व्यंग्य)
नेता बनाम नेताजी(व्यंग्य)
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
याराना
याराना
Skanda Joshi
Mohabbat
Mohabbat
AMBAR KUMAR
"रातरानी"
Ekta chitrangini
Dont loose your hope without doing nothing.
Dont loose your hope without doing nothing.
Sakshi Tripathi
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
ruby kumari
Loading...