Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 1 min read

अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।

अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
फुर्र हो गई फुर्सत अब तो।सबके पास काम बहुत है।।
नहीं जरूरत बूढ़ों की अब।हर बच्चा बुद्धिमान बहुत है।।
उजड़ गए सब बाग बगीचे।दो गमलों में शान बहुत है।।
मट्ठा, दही नहीं खाते हैं।कहते हैं ज़ुकाम बहुत है।।
पीते हैं जब चाय तब कहीं।कहते हैं आराम बहुत है।।
बंद हो गई चिट्ठी, पत्री।फोनों पर पैगाम बहुत है।।
आदी हैं ए.सी. के इतने।कहते बाहर घाम बहुत है।।
झुके-झुके स्कूली बच्चे।बस्तों में सामान बहुत है।।
सुविधाओं का ढेर लगा है।पर इंसान परेशान बहुत है।।

148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
धानी चूनर
धानी चूनर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
3022.*पूर्णिका*
3022.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेरुखी इख्तियार करते हो
बेरुखी इख्तियार करते हो
shabina. Naaz
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
सामन्जस्य
सामन्जस्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
Bimal Rajak
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
💐प्रेम कौतुक-458💐
💐प्रेम कौतुक-458💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
प्रेम ...
प्रेम ...
sushil sarna
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
हमारी जिंदगी ,
हमारी जिंदगी ,
DrLakshman Jha Parimal
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
*Author प्रणय प्रभात*
*हिंदी दिवस मनावन का  मिला नेक ईनाम*
*हिंदी दिवस मनावन का मिला नेक ईनाम*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...