Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2023 · 1 min read

अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है

अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
मेरे चारों तरफ़ ख़ुश्बू गुलों की फैल जाती है

ज़माने हो गए तुझको नहीं देखा मगर फिर भी
सुबह हर रोज़ ख़्वाबों से तेरी पायल जगाती है

मेरी तक़दीर से मैं जब कभी गुस्से में रहता हूँ
मेरे कानों में नग़्मा-ए-सुकूँ तू गुनगुनाती है

मुझे मालूम है तू अब मेरी हो ही नहीं सकती
यहीं इक बात रह-रह के बहुत ज़्यादा रुलाती है

-जॉनी अहमद ‘क़ैस’

238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
"मेला"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी का नशा
ज़िंदगी का नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#drarunkumarshastri♥️❤️
#drarunkumarshastri♥️❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
Rj Anand Prajapati
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
गुप्तरत्न
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
कवि रमेशराज
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
भार्या
भार्या
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
Shyam Sundar Subramanian
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
Loading...