Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो – दिनेश शुक्

अगर सक्सेज चाहते हो तो रुककर पीछे देखना छोड़ दो – दिनेश शुक्ल

1 Like · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Sakshi Tripathi
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
*हनुमान जी*
*हनुमान जी*
Shashi kala vyas
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गीत रीते वादों का .....
गीत रीते वादों का .....
sushil sarna
निदा फाज़ली का एक शेर है
निदा फाज़ली का एक शेर है
Sonu sugandh
और कितना मुझे ज़िंदगी
और कितना मुझे ज़िंदगी
Shweta Soni
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
दुनिया में लोग अब कुछ अच्छा नहीं करते
दुनिया में लोग अब कुछ अच्छा नहीं करते
shabina. Naaz
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*जब अँधेरा हो घना, दीपक जलाना चाहिए 【मुक्तक】*
*जब अँधेरा हो घना, दीपक जलाना चाहिए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-295💐
💐प्रेम कौतुक-295💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
कवि दीपक बवेजा
#एहतियातन...
#एहतियातन...
*Author प्रणय प्रभात*
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Take responsibility
Take responsibility
पूर्वार्थ
Loading...