Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर

अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसरों को ही नहीं हम स्वयं को भी कुछ देर के लिए अचंभित कर देंगे।

Paras Nath Jha

1 Like · 405 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
मैं भारत हूँ
मैं भारत हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
विकास की जिस सीढ़ी पर
विकास की जिस सीढ़ी पर
Bhupendra Rawat
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
*सर्दी (बाल कविता)*
*सर्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
तुम्हारे इश्क़ की तड़प जब से लगी है,
तुम्हारे इश्क़ की तड़प जब से लगी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
फितरत या स्वभाव
फितरत या स्वभाव
विजय कुमार अग्रवाल
"प्रेम कर तू"
Dr. Kishan tandon kranti
*Eternal Puzzle*
*Eternal Puzzle*
Poonam Matia
कुछ बच्चों के परीक्षा परिणाम आने वाले है
कुछ बच्चों के परीक्षा परिणाम आने वाले है
ओनिका सेतिया 'अनु '
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कहानी - आत्मसम्मान)
कहानी - आत्मसम्मान)
rekha mohan
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परमूल्यांकन की न हो
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
*यदि हम खास होते तो तेरे पास होते*
*यदि हम खास होते तो तेरे पास होते*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुझे छेड़ो ना इस तरह
मुझे छेड़ो ना इस तरह
Basant Bhagawan Roy
Loading...