Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2016 · 1 min read

अगर ये दिल नहीं होता……

ग़ज़ल भी हो नहीं पाती अगर चेहरा नहीं होता
मेरा ये दिल किसी के प्यार में पगला नहीं होता
थकन, आवारगी, टूटन, उदासी और तन्हाई
अगर ये दिल नहीं होता कोई मसला नहीं होता
सुकांत तिवारी

Language: Hindi
382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आस्था
आस्था
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिसाब रखियेगा जनाब,
हिसाब रखियेगा जनाब,
Buddha Prakash
■ एक प्रयास...विश्वास भरा
■ एक प्रयास...विश्वास भरा
*Author प्रणय प्रभात*
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
दुष्यन्त 'बाबा'
बसंत का मौसम
बसंत का मौसम
Awadhesh Kumar Singh
वक्त यूं बीत रहा
वक्त यूं बीत रहा
Sudha Maurya
*अर्ध समाजवादीकरण : एक नमूना (हास्य व्यंग्य)*
*अर्ध समाजवादीकरण : एक नमूना (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मोबाइल
मोबाइल
Punam Pande
माँ सच्ची संवेदना...
माँ सच्ची संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सबसे ज्यादा विश्वासघात
सबसे ज्यादा विश्वासघात
ruby kumari
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
दोहा मुक्तक
दोहा मुक्तक
sushil sarna
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
2475.पूर्णिका
2475.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
दाता
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
Loading...